मुलाकात ,#hindi_kavita ,copied

उस से मिलना तो “हाल-ए-दिल ” न बताना।

तन्हा कैसे कटी “उम्र-ए-ग़ाफ़िल ” न बताना।।

न मिले निगाहों से निगाह “याद ” रहे।

“अज़ीम-ए-गुनाह-ए-संगदिल” न बताना।।

जो पूछे हाल तो करना “ख़ैरियत ” ही बयां ।

“अज़ाब-ए-जख्म-ए-कातिल ” न बताना।।

बिछड़ना फिर से, तो चेहरे पे “मुस्कान” रहे।

“दर्द-ए-दिल-ए-बुज़दिल ” न बताना।।

#मुसाफ़िर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s