बरगद सा बूढा

बूढ़े लोगों को चलते देखो , कपकपाते हाथ उनके देखो देखो देखते हैं कैसे वो कि उनको दिखता थोड़ा कम है थोड़े बाल उनके कम हैं, थोड़ी ज़िन्दगी भी कम है कपकपाते पैर उनके देखो उनके कदम भी थोड़े कम हैं डॉक्टर ने भी बोला है कि खाना भी थोड़ा कम है सालों रास्ते बनाये […]

Read More बरगद सा बूढा

वो कहानी तुमको लिखना था

वो कहानी तुमको लिखना था जिसमें खुशियां उल्लाष ना हो बस दर्द भरा सा मातम हो अंत जिसका शुखमय न हो जीवन की सच्चाई हो जिसमे सौ बातें झूठी हों हर वादे किस्से दगा भरे वो कहानी तुमको लिखना था घर जिसमे बिखरे बिखरे हों माँ बाप हों पर अलग अलग सब अपने मतलब पर […]

Read More वो कहानी तुमको लिखना था

खेल और हार-जीत

चलो एक खेल खेलते है ,लेकिन तुमको हारना होगा हर बार ,औऱ खेलना भी होगा , खेल बदल भी नही सकते तुम ,तो सुरुआत करते है फिर— तुम झूठे वादे करना मै अच्छे सपने देखूंगा तुम वोट मांगने मै वोट दूंगा तुम जीत जाना हम खुश हो कर उम्मीदें लगाएंगे तुम नकार देना जब हम […]

Read More खेल और हार-जीत

राच्छस

ये सकल तो देखो राच्छस की ये खुश है बहोत अंदर ही अंदर ये जनता है की सरकार तो मुट्ठी में ही है सब मूर्ख भरे है दुनिया मे मै रावण हू ,10 सर है मेरे तुम समझ न सके तूम्हारे बीच ही था तूम्हे नोचता था तुम्हे खबर न थी हशी तो देखो राच्छास […]

Read More राच्छस

देश हिन्द नारी /#नारी #women_power

कभी रुके झुके न तू कभी डरे हटे न तू तू दुर्गा है तू काली है तू देश हिन्द नारी है तू शक्ति का स्वरूप है तू आदि का अंत है उठा अपनी तलवार को दुश्मनो को चीर दे प्रारम्भ है तू अंत है ये वक्त है ये वक्त है उठ जा गहरी नींद से […]

Read More देश हिन्द नारी /#नारी #women_power